हनूमान तेहि परसा कर पुनि कीन्ह प्रनाम। राम काजु कीन्हें बिनु मोहि कहाँ बिश्राम

लंका की ओर जाते समय हनुमान्‌जी को मैनाक पर्वत ने थोड़ी देर अपने ऊपर विश्राम करने का आमंत्रण दिया | भक्ति और कर्मनिष्ठा से भरे हुए हनुमान जी ने पर्वत को हाथ से छू कर प्रणाम किया और कहा- श्री रामचंद्रजी का काम किए बिना मुझे विश्राम कहाँ?

20 April, 2021





Bhojpuri song by Malini Awasthi, Reliya Bairan

Malini Awasthi is a student of Srimati Girija Devi, and specialises in folk music from Uttar Pradesh and Bihar. रेलिया बैरन पिया को लिये जाय रे, this song is a catharsis for millions of migrants from villages and small towns of Uttar Pradesh, Madhya

29 October, 2014







Kolam Rangoli Alpana design, 16