Art of Living Bhajan, Tum se ho jori

तुम से हो जोड़ी, साची प्रीत हम तुम से हो जोड़ी तुम से हो जोड़ी, अवर संग तोड़ी… तुम से हो जोड़ी, साची प्रीत हम तुम से हो जोड़ी जह जह जाऊं वहां तेरी सेवा, तुम सौ ठाकुर, और ना देवा…

16 January, 2011




Sukhmani Sahib, Hindi text 2

1235756619056634796S200x200Q85

असटपदी सिमर‍उ सिमिरि सिमिरि सुखु पाव‍उ ॥ कलि कलेस तन माहि मिटाव‍उ ॥ सिमर‍उ जासु बिसुंभर एकै ॥ नामु जपत अगनत अनेकै ॥ बेद पुरान सिंम्रिति सुध्याखर ॥ किनका एक जिसु जीअ बसावै ॥ ता की महिमा गनी न आवै ॥ कांखी एकै दरस तुहारो ॥ नानक उन संगि मोहि

27 January, 2010

Sukhmani Sahib, Hindi text, 1

Guru Nanak Dev ji

सलोकु १ ओ़़ं सतिगुर प्रसादि ॥ आदि गुरए नमह ॥ जुगादि गुरए नमह ॥ सति गुरए नमह ॥ स्री गुर देवए नमह ॥ ॥ १ ॥

22 January, 2010



    Meera Bai bhajan by Vani Jairam, Bala mai vairagan houngee