Anandway: Blog

Roadmaps to joy!

Swami Ramtirtha’s poem, I am what you are

जो तू है सो मैं हूं, जो मैं हूं सो तू है।

न कुछ आरज़ू है, न कुछ जुस्तजू है॥

बसा राम मुझ में, मैं अब राम में हूं।

न इक है, न दो हैं, सदा तू ही तू है॥

blog comments powered by Disqus

Tag Cloud