Anandway: Blog

Roadmaps to joy!

Sri Banke Bihari ji ke sawaiya, 44 of 144

४४.

केहि पापसों पापी न प्राण चलैं अटके कित कौन विचारलयो।

नहिं जानि परै ‘हरिचन्द’ कछू विधि ने हमसों हठ कौन ठयो॥

निसि आज हू हाय बिहाय गई बिन दर्शन कैसे न जीव गयो।

हत भागिनी आंखन सों नित के दुख देखबे को फिर भोर भयो॥४४॥

More Braj ke sawaiya/dohe

blog comments powered by Disqus

Tag Cloud