Anandway: Blog

Roadmaps to joy!

13 May Birthday Song for Guruji Sri Sri Ravi Shankar

Lyrics: Tera Main...

प्यार के सागर हो, ज्ञान के मंदिर हो,

आंखों में बसते हो, होठों पे हंसते हो,

हर पल जताते हो, ‘तेरा मैं’

दुनिया में आये हो, रौशनी लाये हो,

सब के दुलारे हो, हर दिल पे छाये हो,

हर पल जताते हो, ‘तेरा मैं’

हो, मन के चिराग़ों में तुम झिलमिलाते हो,

भूली से यादों को रौशन कर जाते हो,

याद दिलाते हो, ‘तेरा मैं’

तपती दोपहरों में राहत बन जाते हो,

सब के दिलों की तुम चाहत बन जाते हो,

हंस कर कह जाते हो, ‘तेरा मैं’

सुन लो ये गाते हैं, गा के सुनाते हैं

आज बताते हैं, We love you, O Guruji...

Bhajan lyrics, Tere mandir me aana mera kaam hai

तेरे मंदिर में आना मेरा काम है, मेरी बिगड़ी बनाना तेरा काम है

मेरे सिर को झुकाना मेरा काम है, मेरे सिर को उठाना तेरा काम है

मैंने मन को तो मंदिर बना ही लिया, इस मंदिर में बसना तेरा काम है

मैंने तुझको तो अपना बना ही लिया, मुझे अपना बनाना तेरा काम है

Krishna bhajan – tum kaha chhupe bhagavan ho

तुम कहां छुपे भगवन हो, मधुसूदन हो, मोहन हो,

कहां ढूंढू रमा रमन हो, मेरे प्यारे मनमोहन हो

क्या छुपे क्षीरसागर में, या गोपिन की गागर में,

या छुपे भक्त-हृदय में, मेरे प्यारे मनमोहन हो

हो सांवरी सूरत वाले, इक बार दिखा दे झांकी,

है कसम तुम्हें राधा की, मेरे प्यारे मनमोहन हो

मेरे हृदय कुंज में आओ, बस आओ तो बस जाओ

आओ तो छुप जाओ, यहां प्रेम सुधा बरसाओ

यहां प्रेम सुधा बरसाओ, मेरे प्यारे मनमोहन हो

Meera Bai Bhajan – Sakhi ree mohe laage vrinavan neeko

आली री मोहे लागे वृन्दावन नीको

निर्मल नीर बहत यमुना को, भोजन दूध दही को,

सखी सी मोहे लागे वृन्दावन नीको 

आली री मोहे लागे वृन्दावन नीको

रतन सिंहासन आप विराजे, मुकुट धरे तुलसी को

आली री मोहे लागे वृन्दावन नीको

कुंजन कुंजन फिरत राधिका, शब्द सुनत मुरली को

आली री मोहे लागे वृन्दावन नीको

मीरा के प्रभु गिरधर नागर, भजन बिना नर फीको

आली री मोहे लागे वृन्दावन नीको

In this bhajan, Meera Bai sings and tells her friends that she loves Vrindavan. The clear waters of Yamuna flow through Vrindavan. There is an abundance of milk and ghee for food. Krishna is sitting on an ornate chair with a crown of tulsi (Holy Basil) leaves on his forehead. Radhika is going from one garden to another in search of Krishna. Meera says that there is no enjoyment in a human life like the one that is in devotion.

Tag Cloud