ध्यान क्या है और क्या हैं उसके लाभ ? - श्री श्री रवि शंकर जी

ध्यान क्या है?

श्री श्री रवि शंकर - मन के ऊपरी सतह पर ठहराव लाना ही ध्यान है| वर्तमान क्षण में जीना ही ध्यान है| पूरी तरह से विश्राम करना ही ध्यान है| जब आप पूरी तरह से प्रसन्न होते हैं, प्रेम से ओत-प्रोत होते हैं, तब ध्यान सहज ही हो जाता है| ध्यान एक ऐसी स्थिति है, जिसमें सभी विचार थम जाते हैं और मन पूरी तरह विश्राम की स्थिति में पहुंच जाता है|

Nitin



blog comments powered by Disqus



Braj bhajan – mai ho gai sajani lata pata