Anandway: Blog

Roadmaps to joy!

Achyutam Keshavam Art of Living bhajan by Vikram Hazra

अच्युतं केशवं कृष्ण दामोदरं

राम नारायणं जानकी वल्लभं

कौन कहते हैं भगवान आते नहीं

तुम मीरा के जैसे बुलाते नहीं More...

Art of Living bhajans Krishnam Vande and Nand Nandan by Rishi Nityapragya

कृष्णं वन्दे, परमानंदं वन्देहं

मुरली धरा, कृष्ण तुलसी धरा

मनमोहना आनंद वंदना…

हे गिरधारी वनमाली

यमुना तीर विहारी, हरि…

नंद नंदन, आनंद नंद नंदन, गोविंद नंद नंदन गोपाला…गोपाला

गोपला गोपाला, नारायण हरि गोविंदा

मुकुंद कृष्णः गोविंद, मुरली कृष्णः गोपाला

नंद नंदन, आनंद नंद नंदन, गोविंद नंद नंदन गोपाला…गोपाला

गोविंदा गोविंदा, गोपाला, गोपाला

Gauri Nandan Gajanana, Art of living bhajan by Vikram Hazra

 

गौरी नंदन गजानना, गिरिजा नंदन निरंजना

पार्वती नंदन शुभानना…

पाहि प्रभो, पाहि प्रसन्ना

गौरी नंदन गजानना, गिरिजा नंदन निरंजना

और राग सब बने बराती, दूल्हा राग बसंत, Raga Basant by Pandit Jasraj

और राग सब बने बराती, दूल्हा राग बसंत

मदन महोत्सव आज सखी री अब, विदा भयो हेमंत

सहचर गान करत ऊंचे स्वर, कोकिल बोले असंख्य

गावत नारी पंचम स्वर ऊंचे स्वर, ऐसो गीत अनंत

कृष्ण दास स्वामिन बड़भागिन, मिल्यो है भावतो…

Guru bhajan, Shabad by Hans Raj Hans, Mil mere pritam ji o

मिल मेरे प्रीतम जी ओ, तुद बिन खड़े निमाने

नैनन नींद ना आवे जी

भावे अन्न ना पाणी

पाणी अन्न ना भावे

मरिये हां वे

बिन तिर क्यों सुख पाइये

गुरु आगे करो बिनंती जे गुरु भावे

जो मिल तिने मिलाइये

मिल मेरे प्रीतम जी ओ

मत कोई सज्जण

आपे मेले…

सदा सुहागिन

ना पिर मरे ना जाये

Art of Living bhajan, Hame raasto ki zaroorat nahi hai

हमें रास्तों की ज़रूरत नहीं है

हमें तेरे पैरों के निशां मिल गये हैं

अब तेरा मैं हूँ, मुझ में ही तू है

हमें रास्तों की ज़रूरत नहीं है

हमें तेरे पैरों के निशां मिल गये हैं

Tag Cloud