Anandway: Blog

Roadmaps to joy!

What are the Signs of Love?

Sri Sri Ravi Shankar ji, signs of love

When you love someone you don’t see anything wrong in them. Even if you see some fault in them you justify the fault and say Well everyone does it, it is normal.

You think you have not done enough for them. The more you do, the more you want to do for them. They are always in your mind.

Ordinary things become extraordinary. For example: A baby winking at grandmother.

You want them to be yours exclusively.

When you love someone, you want to see them always happy and you want them to have the best.

You get hurt even over small things.

- Sri Sri Ravi Shankar

Conflict And Innocence

Conflict And Innocence

Sri Sri Ravi Shankar: Fights can only happen among equals. When you fight with someone, you make them equal. But in reality there is no one at par with you. When you keep people either above or below you, then there is no fight. When they are above you, you respect them. When they are below you, you love them and you feel compassionate. Either submission or compassion can take you out of a fight in no time. This is one way to look at it when you are tired of fighting. When you are well rested, just fight and have fun.

The same is true of the mind. As long as the mind thinks it is equal to the senses, there is conflict. When it realizes that it is bigger than the senses, there is no conflict. And when the mind is smaller than the senses, like in animals, there is no conflict. When the mind is caught up in the senses, there is constant conflict. When it transcends the senses, it comes back to its true nature, which is innocence - in no sense.

Does this make sense? (Laughter)

True love changes your vision of the world, says swami Ramtirtha

  • जो शक्ति हम दूसरों की जांच-पड़ताल करने में नष्ट करते हैं, उसे हमें अपने आदर्श के अनुसार चलने में लगानी चाहिये।
  • वेदान्त के अनुसार, मानसिक एकाग्रता की विशेषता यह है कि हमें अपनी असली आत्मा को सूर्यों का सूर्य और प्रकाशों का प्रकाश अनुभव करना, साक्षात करना होता है।
  • जैसे को तैसा आकर मिलता है। आप यहीं, इसी क्षण ईश्वर के आनन्द को अपने भीतर अनुभव करो – सफलता का आनन्द अपने आप, आप की ओर खिंचता हुआ चला आयेगा।
  • सत्य को नष्ट नहीं किया जा सकता और असत्य कभी फल-फूल नहीं सकता।
  • जो मनुष्य सब के प्रति अभेदना की भावना से ओत-प्रोत होता है, उसका हृदय, निर्भयता, शक्ति तथा आध्यात्मक पवित्रता का केन्द्र बन जाता है।
  • सच्ची प्रीति और प्रेम जब उमड़ता है तो अन्धे को आंखें मिल जाने के समान होता है और दुनिया बदल जाती है।
  • सब पापों से बचने और सब प्रलोभनों से ऊपर उठने का एकमात्र उपाय है, अपने सत्य-स्वरूप आत्मा का अनुभव करना।

~ स्वामी रामतीर्थ

Swami Ramtirtha’s message on Love and Sacrifice

  • विषय वासना-हीन प्रेम ही आध्यात्मिक प्रकाश है।
  • प्रेम का अर्थ है, व्यवहार में अपने पड़ोसियों के साथ, उन लोगों के साथ जिनसे आप मिलते जुलते हैं, एकता और अभेदना का अनुभव करना।
  • कामना रहित कर्म ही सर्वोत्तम त्याग अथवा पूजा है।
  • अहंकार-पूर्ण जीवन को छोड़ देना ही त्याग है, और वही सौंदर्य है।
  • एक-एक में और सब में ईश्वरत्व का भान करना ही वेदान्त के अनुसार त्याग है।
  • त्याग के अतिरिक्त और कहीं वास्तविक आनन्द नहीं मिल सकता; त्याग के बिना न तो ईश्वर-प्रेरणा हो सकती है, न प्रार्थना।
  • सच्चा प्रेम, सूर्य के समान, आत्मा को विकसित कर देता है – मोह मन को पाले के समान ठिठुराकर संकुचित कर डालता है।
  • प्रेम को मोह मत समझो – प्रेम और है, मोह और है – इन्हें एक समझना भारी भूल है।
  • प्रेम का अर्थ है सौंदर्य का दर्शन करना।

~ स्वामी रामतीर्थ

 

RK Narayan, Bachelor of Arts, quote 2

People pretended that they were friends, when the fact was they were brought together by force of circumstances. The classroom or the club or the office created friendships. When the circumstances changed the relations too snapped.

~ RK Narayan, Bachelor of Arts

Tag Cloud