Anandway: Blog

Roadmaps to joy!

Aap ko dekh kar dekhta rah gaya, Ghazal by Jagjit Singh, video and lyrics

Ghazal lyrics by Wasim Barelavi

आपको देख कर देखता रह गया, क्या कहूं, और कहने को क्या रह गया

आते आते मेरा नाम सा रह गया, उसके होंठों पे कुछ कांपता रह गया

वो मेरे सामने ही गया, और मैं रास्ते की तरह देखता रह गया

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गये, और मैं था कि सच बोलता रह गया

Afghan ghazal sung by Farid Ahmad and Malini Awasthi

A preview of DVD: Rang

Featuring:

Farid Ahmad: Singer

Malini Awasthi: Singer

Ustad Kamal Sabri on Saranagi

Gulfam Sabri on Tabla

Akhtar Hasan on Tabla

Adil Khan on Dholak

Khalid Mustafa on Sitar

Ustad Zamir Ahmed on Harmonium

Mushir Ahmed on Harmonium

Razik Fani: Lyrics

Ustad Umeed Ali Khan: Composition

Tag Cloud