Anandway: Blog

Roadmaps to joy!

Sri Banke Bihari ke sawaiya, 34 of 144, वे तो लली वृषभान लली की गली के गुलाम हैं

Sawaiya verses are part of the rich literary heritage of Braj (Mathura-Vrindavan). They are dramatised in raslila performances.

३४.

द्वार के द्वारिया पौरि के पौरिया पाहरुवा घर के घनश्याम हैं।

दास के दास सखीन के सेवक पार परोसिन के धन धाम हैं॥

‘श्रीधर’ कान्ह भये बस भामिनि मान भरी नहीं बोलत बाम है।

एक कहै सखि वे तो लली वृषभान लली की गली के गुलाम हैं॥

Sri Banke Bihari ji ke sawaiya, 33 of 144 ‘रसखान’ गोविन्द को यों भजिये जिमि नागरि को चित गागरि में

३३.

सुनिये सब की कहिये न कछू, रहिये इमिया भव वागर में।

करिये व्रत नेम सचाई लिये जेहि सों तरिये भवसागर में॥

मिलिये सब सों दुरभाव बिना रहिये सतसंग उजागर में।

‘रसखान’ गोविन्द को यों भजिये जिमि नागरि को चित गागरि में॥

vishnu-govind


Raskhan says in this sawaiya verse:

Live your daily life normally, but keep your mind on Govind. Just as a village belle returning from the river, carrying pots full of water on her head is behaving normally with her friends, chatting, greeting, walking… Yet, her attention never leaves her water pots on her head. If she is not attentive to her pots, they could crash any time!

Krishna bhajan from Vrindavan, tum ho nandlal janam ke kapati

तुम हो नंदलाल जनम के कपटी

औरों की गागर नित उठ भरते, मेरी मटकी मझधार में पटकी

तुम हो नंदलाल जनम के कपटी

औरों का माखन नित उठ खाते, मेरो माखन अधरन बिच अटक्यो More...

Krishna bhajan, Ikli ban me gheri aan, Shyam tane kaisi thhani re

इकली बन में घेरी आन, श्याम तने कैसी ठानी रे

श्याम मोहे बृन्दाबन जानो रे, लौट के बरसाने आनो रे

जो होई देर अबेर, लड़े घर सास-जिठानी रे More...

Sri Banke Bihari ji ke sawaiya, 22 of 144

२२.
दीन दयाल सुने जब ते, तब ते मन में कछु ऐसी बसी है ।
तेरो कहाय के जाऊँ कहाँ, तुम्हरे हित की कटि फेंट कसी है ॥
तेरो ही आसरो एक ‘मलूक’, नहीं प्रभु सो कोऊ दूजो जसी है ।
ए हो मुरारी पुकारि कहूँ, अब मेरी हँसी नहिं तेरी हँसी है ॥

In this sawaiya verse, Malook says to Krishna:

Ever since I’ve heard of your merciful nature, I have surrendered myself to you. Now that I am yours, I am not going to anyone else for help. My surrender to you is total. I depend on you. There is none other as famous as you. Murari, if you don’t answer my prayer, I am not at a loss, it is your fame that you are jeopardising :-)

Hindi bhajan lyrics, Sumiran karo aadi Bhavani ka

सुमिरन करो आदि भवानी का, सुमिरन करो आदि भवानी का

पहला सुमिरन गणपति देवा, और रिद्धि सिद्धि महारानी का

सुमिरन करो आदि भवानी का, सुमिरन करो आदि भवानी का

दूसरा सुमिरन शंकर जी का, और गौरा महारानी का More...

Tag Cloud